संसद के रिकॉर्ड से भाषण को हटाना (Expunction in Parliament)

parliament of india

भारत के लोकतंत्र में संसद एक महत्वपूर्ण संस्थान है जहाँ सांसद देश के विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करते हैं और निर्णय लेते हैं। इन चर्चाओं में सदस्यों के भाषण महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, लेकिन कभी-कभी भाषण के कुछ अंशों को संसद के रिकॉर्ड से हटाया जाता है। इसे 'भाषण को हटाना' या 'Expunction' कहा जाता है।

संसद में भाषण का महत्व

संसद में भाषण लोकतंत्र की आत्मा है। यह सांसदों को अपनी राय और विचार व्यक्त करने का मंच प्रदान करता है। भाषण के माध्यम से न केवल सरकार की नीतियों की आलोचना होती है, बल्कि विभिन्न मुद्दों पर समाधान भी प्रस्तुत किए जाते हैं।

भाषण को हटाने का अर्थ

'भाषण को हटाना' का मतलब है संसद सदस्य के भाषण के किसी अंश को संसद की कार्यवाही या रिकॉर्ड से हटा देना। ऐसा तब किया जाता है जब भाषण का कोई अंश अपमानजनक, अभद्र, असंसदीय या अशोभनीय हो।

संसद में भाषण को हटाने की प्रक्रिया

लोक सभा में

लोक सभा में अध्यक्ष यह तय करते हैं कि भाषण के किस अंश को हटाया जाएगा। यह प्रक्रिया लोक सभा प्रक्रिया एवं कार्य संचालन नियम के नियम 380 और 381 के अंतर्गत होती है।

राज्य सभा में

राज्य सभा में सभापति यह निर्णय लेते हैं कि कौन सा भाषण हटाया जाएगा। यह प्रक्रिया राज्य सभा प्रक्रिया एवं कार्य संचालन नियम के नियम 261 और 262 के अंतर्गत होती है।

नियम 380 और 381 (लोक सभा)

नियम 380 के अनुसार, अगर किसी सदस्य का भाषण असंसदीय, अपमानजनक या अशोभनीय पाया जाता है, तो अध्यक्ष उस अंश को हटाने का आदेश दे सकते हैं। नियम 381 में यह प्रावधान है कि अगर किसी सदस्य के भाषण का कोई हिस्सा हटाया जाता है, तो उसे आधिकारिक रिकॉर्ड से मिटा दिया जाएगा।

नियम 261 और 262 (राज्य सभा)

नियम 261 और 262 राज्य सभा में इसी तरह की व्यवस्था प्रदान करते हैं। सभापति के पास यह अधिकार होता है कि वे असंसदीय, अपमानजनक या अशोभनीय भाषा वाले अंश को हटाने का आदेश दे सकते हैं।

अध्यक्ष और सभापति की भूमिका

अध्यक्ष और सभापति की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। वे यह सुनिश्चित करते हैं कि संसद की गरिमा बनाए रखी जाए और सदस्यों द्वारा उपयोग की जाने वाली भाषा मर्यादित हो।

भाषण हटाने के कारण

अपमानजनक भाषा

किसी सदस्य द्वारा अपमानजनक भाषा का प्रयोग किया जाना, जो किसी व्यक्ति या समूह की मानहानि करता हो।

अभद्र भाषा

अभद्र भाषा का उपयोग संसद की गरिमा को ठेस पहुँचाता है, और ऐसे भाषण को हटाना जरूरी होता है।

असंसदीय शब्द

संसद में कुछ शब्दों को असंसदीय माना जाता है और उनका उपयोग निषिद्ध है।

अशोभनीय भाषा

ऐसी भाषा जो संसद के सम्मान को ठेस पहुँचाती है, उसे भी हटाया जा सकता है।

भाषण को हटाने के उदाहरण

हाल ही में विपक्षी नेताओं के भाषण के कुछ अंश हटाए गए। यह दर्शाता है कि संसद में भाषा और शब्दों के चयन में सावधानी बरतनी चाहिए।

भाषण हटाने के प्रभाव

भाषण हटाने से सदस्यों को यह संदेश मिलता है कि उन्हें संसद की मर्यादा का पालन करना है। यह सुनिश्चित करता है कि संसद की कार्यवाही सम्मानजनक और प्रभावी रहे।

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता लोकतंत्र का मूल स्तंभ है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि कोई भी असंसदीय या अभद्र भाषा का प्रयोग करे।

संविधान का अनुच्छेद 105(2)

संविधान का अनुच्छेद 105(2) संसद सदस्यों को संसद में दिए गए भाषण या मतदान के लिए कानूनी कार्रवाई से बचाता है।

विपक्ष और सरकार का दृष्टिकोण

विपक्ष और सरकार का दृष्टिकोण भाषण हटाने पर अलग हो सकता है। विपक्ष इसे अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर हमला मान सकता है, जबकि सरकार इसे संसद की मर्यादा बनाए रखने के रूप में देखती है।

संसदीय कार्यवाही पर भाषण हटाने का प्रभाव

भाषण हटाने से संसदीय कार्यवाही की गुणवत्ता में सुधार होता है और सदस्यों को यह समझ में आता है कि मर्यादित भाषा का प्रयोग कितना महत्वपूर्ण है।

निष्कर्ष

संसद के रिकॉर्ड से भाषण को हटाना एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है जो संसद की गरिमा और मर्यादा को बनाए रखने में मदद करती है। यह सुनिश्चित करता है कि संसद में होने वाली चर्चाएं और बहसें सम्मानजनक और प्रभावी हों।

FAQs

1. संसद के रिकॉर्ड से भाषण को हटाने का क्या अर्थ है?
संसद सदस्य के भाषण के किसी अंश को अपमानजनक, अभद्र, असंसदीय या अशोभनीय होने के कारण संसद की कार्यवाही या रिकॉर्ड से हटाना।

2. भाषण हटाने की प्रक्रिया किस प्रकार होती है?
लोक सभा में अध्यक्ष और राज्य सभा में सभापति यह तय करते हैं कि भाषण के किस अंश को हटाया जाएगा।

3. नियम 380 और 381 क्या हैं?
ये लोक सभा के नियम हैं जिनके तहत अपमानजनक, अभद्र, असंसदीय या अशोभनीय भाषण के अंश को हटाया जाता है।

4. संविधान का अनुच्छेद 105(2) क्या कहता है?
यह संसद सदस्यों को संसद में दिए गए किसी भाषण या किए गए मतदान के लिए अदालती कार्रवाई से बचाता है।

5. भाषण हटाने के क्या कारण हो सकते हैं?
भाषण अपमानजनक, अभद्र, असंसदीय या अशोभनीय हो सकता है, जिसके कारण उसे हटाया जा सकता है।

Post a Comment for "संसद के रिकॉर्ड से भाषण को हटाना (Expunction in Parliament)"